प्रेगनेंसी में यात्रा करते समय इन बातों का रखें ध्यान!

प्रेगनेंसी में यात्रा करते समय इन बातों का रखें ध्यान!

गर्भावस्था का सफर प्रत्येक महिला के लिए बेहद रोमांच भरा होता है, जिसमें हर पल वह नये-नये, खट्टे-मीठे, अच्छे-बुरे अनुभवों और व कई उतार-चढ़ाव से गुजरती है । इसलिए गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को विशेष सावधानी रखने की सलाह दी जाती है । खासकर तब जब वह यात्रा पर जाये या लम्बा सफर करें । गर्भवती महिला सफर कर सकती है या नहीं ये उसकी प्रेगनेंसी पर निर्भर करता है । अगर आपकी प्रेगनेंसी में कोई जटिल समस्या है, आपको बेड रेस्ट बताया हुआ है तो आप 9 महीने तक सफर ना करें । पहले तीन महीने में जी घबराना, उल्टी होना, कमजोरी महसूस होना, चक्कर आना जैसी समस्याएं रहती है । इस समय यात्रा करना सुरक्षित नहीं है कभी-कभी गर्भपात का खतरा हो जाता है । समय पूर्व प्रसव की सम्भावना हो सकती है । बीच के तीन महीने यात्रा करने के लिए सुरक्षित माने जाते है लेकिन इस समय भी आपको सावधानी रखते हुये सफर करना चाहिए ।

  • जहाँ तक हो हवाई यात्रा ना करें । लम्बे समय तक एक जगह बैठे ना रहे, 1-2 घंटे बाद गाड़ी से उतरकर टहले ।
  • अगर आप ट्रेन से यात्रा कर रहे तो नीचे की बर्थ पर ही बैठे । चलती ट्रेन में ना चढ़े, ट्रेन के रुकने के पश्चात ही ट्रेन में चढ़े या उतरे । ज्यादा वजन का सामान ना उठाये
  • पर्याप्त मात्रा में पेय पदार्थों का सेवन करे, तुरंत मिलने वाली वस्तुएं अपने पास रखे और खाते रहे ।
  • गर्भावस्था के दौरान ली जाने वाली दवायें-उल्टी दस्त, खांसी-जुकाम की दवायें हमेशा अपने साथ रखें और जरूरत पड़ने पर डॉक्टर से पूछ कर लेवे ।
  • यात्रा के दौरान ढीले-ढाले कपड़े व आरामदायक जूते पहने । मसालेदार खाने से बचे । कौशिश करे फल और ज्यूस खाने में ले । पौष्टिक आहार ले ।
  • डॉक्टर के निर्देश के अनुसार ही सफर करे । अपनी मेडिकल हिस्ट्री और किट हमेशा अपने साथ रखे ।
  • जिस जगह जाना है पहले से ही वहां के मौसम व खान-पान का पूरा पता कर ले उस हिसाब से तैयारी कर के जाये । ऐसी जगह ना जाये जहाँ किसी संक्रमित बीमारी का प्रकोप हो ।
  • सबसे ज्यादा अहम बात अगर सफर करना जरुरी हो तो खुश होकर कर जाये । तनाव बिल्कुल ना ले । शांत रहे, सफर सुरक्षित रहेगा और हँसते-मुस्कराते वापिस आयेंगे ।